दोहा । आई.ए.ए.एफ विश्व एथलैटिक्स चैम्पियनशिप के दौरान अमरीकी एथलीट एरिका बुगार्ड मुसीबत में फंस सकती हैं। इसका कारण यह है कि हैप्टाथलीट एरिका एल.जी.बी.टी. समुदाय से हैं। चैम्पियनशिप के एक इवैंट के दौरान उन्होंने जो जूता पहना था उसपर कम्युनिटी का प्रतीक यानी रेनबो कलर का स्टीकर लगा था क्योंकि दोहा में एल.जी.बी.टी. से जुड़े कार्य प्रतिबंधित हैं तो ऐसे में एरिका को नियमानुसार 3 साल की सजा भी भुगतनी पड़ सकती है।हालांकि इस अमरीकी एथलीट ने कहा कि उन्होंने जान-बूझकर ऐसा कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि वह अक्सर ऐसा करती हैं। उन्हें लगता है कि ऐसा करने से दुनिया भर में बसे हमारी कम्युनिटी के लोग यह देख पाएंगे कि हम कितनी तरक्की कर चुके हैं। मेरे लिए रेनबो स्टीकर लगाना गर्व की बात है, खास तौर पर मैं अपनी साथियों के लिए गर्व का विषय बनना चाहती हूं।चैम्पियनशिप के दौरान मुझे उम्मीद से भी ज्यादा प्रशंसा मिल रही है। आशा है कि मुझे इसका बहुत अधिक नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा। वहीं गत सप्ताह आई.ए.ए.एफ प्रैसिडैंट लॉर्ड कोए से भी इस नियम के बारे में पूछा गया था। तब उन्होंने कहा था कि फिलहाल हम अंतरराष्ट्रीय कानून के साथ चल रहे हैं। अगर यहां लोकल विरोध होगा तो उसको अपने स्तर पर देखा जाएगा। मालूम हो कि संयुक्त अरब अमीरात एल.जी.बी.टी. कम्युनिटी को लेकर बेहद सख्त है। यहां इस समुदाय से जुड़े कार्य में लिप्त पाए जाने पर भी सजा का प्रावधान है।